अपने करियर के दौरान कभी न चोटिल होने वाले 5 Indian Cricketers, जिनमे एक के नाम दर्ज 24000 से भी अधिक रन

किसी भी खेल में किसी भी खिलाड़ी के चोट लग जाना एक मामूली बात होती है, Indian Cricketers को तो अक्सर ही चोटों का सामना करना पड़ता रहता है, जिसके चलते वह कई महत्वपूर्ण मुकाबलों को भी छोड़ देते हैं। पिछले कुछ समय में ऐसा कई बार सामने आया, कि भारतीय टीम के खिलाड़ियों को चोट के कारण बड़े-बड़े टूर्नामेंट्स छोड़ने पड़े।

रोहित शर्मा, जसप्रीत बुमराह, रवींद्र जडेजा और दीपक चाहर जैसे ऐसे कई बड़े बड़े खिलाड़ी हैं, जिन्हें पिछले कुछ समय से चोट के कारण कई महत्वपूर्ण मुकाबलों को गवाना पड़ा। जहां भारतीय टीम के यह खिलाड़ी चोट का शिकार होने के कारण क्रिकेट खेलने में नाकाम रहे। वहीं कुछ ऐसे भी रहे, जो अपने अंतरराष्ट्रीय करियर के दौरान शायद ही कभी चोट का शिकार हुए हो। आज इस आर्टिकल के जरिए ऐसे ही 5 खिलाड़ियों के बारे में बताएंगे, जिन्हें शायद कभी क्रिकेट के मैदान को चोट के कारण छोड़ना पड़ा हो।

राहुल द्रविड़

लंबे समय से भारतीय टीम के लिए खेल रहे मुख्य कोच राहुल द्रविड़ 1996 से 2012 तक भारतीय टीम का हिस्सा रह चुके हैं। उन्होंने अपनी बेहतरीन और ताबड़तोड़ बल्लेबाजी के चलते भारतीय टीम के लिए कई मुकाबलों के दौरान बेहतर प्रदर्शन कर जीत हासिल की। एक शीर्ष क्रम के बल्लेबाज होने के साथ साथ राहुल अपने डिफेंसिव बल्लेबाजी कौशल के लिए जाने जाते थे।

अपने अंतरराष्ट्रीय करियर में वह 164 टेस्ट, 344 वनडे, और एक टी-20 मैच खेलने में कामयाब रहे। और इसके साथ-साथ उन्होंने 24000 हजार से अधिक रन भी बनाए। अपने करियर के दौरान इस खिलाड़ी को बहुत ही कम चोटों का सामना करना पड़ा। इसी के चलते वह टीम के लिए इतने अधिक मैच खेलने में कामयाब रहे।

सौरव गांगुली

भारतीय टीम के लिए पूर्व कप्तान सौरव गांगुली बहुत से कारनामे कर चुके हैं। इनकी गिनती भी उन खिलाड़ियों में की जाती है, जिन्हें चोट के कारण क्रिकेट से दूर रहना पड़ा हो। साल 1992 से 2007 तक भारत के लिए खेलने वाले सौरव गांगुली ने लंबे समय तक भारतीय टीम की कप्तानी भी की थी। वही सौरव गांगुली को उनकी अच्छी और बेहतरीन फिटनेस के लिए भी जाना जाता था। अपने करियर के दौरान इस खिलाड़ी ने काफी बड़ी चोटों का सामना किया है। भारत के लिए वह 113 टेस्ट और 311 वनडे खेलने में कामयाब रहे, जिनमें टेस्ट में 7000 से अधिक और वनडे में वह 10,000 से अधिक रन बनाने में कामयाब रहे।

सुरेश रैना

महेंद्र सिंह धोनी के जिगरी दोस्त बाएं हाथ के बल्लेबाज सुरेश रैना भी इसी लिस्ट में शामिल हैं। साल 2005 से 2018 तक भारत के लिए खेलने वाले मिस्टर आईपीएल ने भारतीय टीम के मध्यक्रम को बहुत अधिक मजबूती प्रदान की। इसके अतिरिक्त सर्वश्रेष्ठ फील्डर के रूप में भी वह जाने जाते थे। अपने करियर के दौरान रैना को भी किसी बड़ी चोट का सामना नहीं करना पड़ा। वह भारत के लिए 18 टेस्ट, 226 एकदिवसीय और 78 टी20 मैच खेलने में कामयाब रहे, जिसमें उनके द्वारा 7988 रन बनाए गए।

एमएस धोनी

फिटनेस के मामले में महेंद्र सिंह धोनी का कोई जोड़ नहीं है। 41 वर्षीय धोनी की फिटनेस के आज के समय में सभी दीवाने हैं। इतनी उम्र में भी उन्होंने अपने आप को इस कदर मेंटेन कर रखा है, कि दुनिया में सभी अपने आप को उनकी तरह फिट बनाना चाहते हैं। साल 2004 से 2019 तक भारतीय टीम के लिए खेलने वाले भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की गिनती सबसे फिट खिलाड़ियों में की जाती थी।

अपने कार्यकाल के समय यह खिलाड़ी क्रिकेट के मैदान से दूर नहीं रहा। हमेशा ही टीम के लिए धोनी ने अपने आपको सबसे आगे रखा। भारत के लिए वह 90 टेस्ट, 350 वनडे और 98 टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच खेलने में कामयाब रहे। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद भी महेंद्र सिंह धोनी आईपीएल में सीएसके की तरफ से खेलते हैं।

विराट कोहली

भारत के लिए खेलने वाले सबसे फिट खिलाड़ियों की लिस्ट में विराट कोहली का नाम भी शामिल है। विराट कोहली पिछले 8 -10 सालों से भारतीय टीम के मुख्य और नियमित खिलाड़ियों में माने जाते हैं। कभी भी इस खिलाड़ी को किसी चोट का सामना नहीं करना पड़ा, जिसके चलते लंबे समय तक वह क्रिकेट के मैदान से दूर रहे।

इन्हीं कारणों के चलते अपने क्रिकेट करियर में वह अब तक 100 से अधिक टेस्ट और टी-20 और 250 से अधिक वनडे मैच खेलने में कामयाब रहे। विराट कोहली ने फिटनेस को लेकर क्रिकेट गलियारों में अपनी कुछ अलग ही परिभाषा दी है। आज उनकी फिटनेस का हर कोई गुणगान करता दिखाई देता है।

Read Also:-IND vs SL: ‘आप मुझसे कहीं अधिक’…सूर्यकुमार की तूफानी बल्लेबाजी देख दिनेश कार्तिक ने कही ये बड़ी बात

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *