यो-यो टेस्ट या डेक्सा-टेस्ट? जानिए कौन सा टेस्ट होता है सबसे ज्यादा खतरनाक, क्वालीफाई करने के बाद भी मिलेगा भारतीय टीम में एंट्री

T20 वर्ल्ड कप में इंग्लैंड के हाथों 10 विकेट से हारने के बाद भारतीय टीम के खराब प्रदर्शन पर बीसीसीआई ने बड़े बड़े कदम उठाए थे। इसी के साथ वर्ल्ड कप हारने के बाद भारत की चयन समिति को भी बर्खास्त कर दिया गया था। हालांकि एक उच्चस्तरीय बैठक भी होनी थी। जिसको नवंबर में आयोजित किया जाना था। लेकिन यह उच्च स्तरीय बैठक बीते रविवार को हुई और इस बैठक में यो-यो टेस्ट को एक बार फिर चाहिए चयन का हिस्सा बनाया गया क्या है यह यो यो टेस्ट चलिए आपको बताते हैं।

Read More : T20 वर्ल्ड कप खत्म होते ही दिग्गज खिलाड़ी का बड़ा बयान, टेस्ट क्रिकेट छोड़ने के दिए संकेत

यो यो टेस्ट की हुई वापसी

दरअसल बेहतरीन बल्लेबाज विकेट विराट कोहली जब भारतीय टीम के कप्तान थे तब यो यो टेस्ट आया था। यो यो टेस्ट एक फिटनेस टेस्ट है। जिसमें खिलाड़ियों की ताकत को जांचा परखा जाता है। पिछले कुछ समय से इस टेस्ट को तवज्जो नहीं मिल रही थी। लेकिन उच्च स्तरीय बैठक के बाद बीसीसीआई का यह सख्त आदेश है कि यो-यो टेस्ट को फिर से टीम के सिलेक्शन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाया जाए।

डेक्सा टेस्ट भी हुआ अहम

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड की उच्च स्तरीय बैठक में बीसीसीआई अध्यक्ष रोजर बिन्नी वह बीसीसीआई सचिव जय जय शाह,राहुल द्रविड़ और कप्तान रोहित शर्मा सहित टीम के चयनकर्ता चेतन शर्मा भी शामिल हुए थे और इन सब लोगों ने मिलकर ही डेक्सा टेस्ट को भारतीय टीम के सिलेक्शन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बनाया था।

विस्तार से जाने क्या होता है डेक्सा टेस्ट

दरअसल बता दें कि डेक्सा टेस्ट हड्डी से जुड़ा हुआ एक टेस्ट है। जिसे बोन डेंसिटी टेस्ट भी कहा जाता है। इस प्रक्रिया में एक्सप्रेस तकनीक का इस्तेमाल होता है। इस प्रक्रिया में एक्स-रे तकनीक का इस्तेमाल किया जाता हैं। इस टेस्ट के जरिए हम खिलाड़ियों की हड्डियों की मजबूती को नाप सकते हैं। हालांकि टेस्ट में दो प्रकार की बीम बनती है। एक बीम की फोर्स काफी ज्यादा होती हैं। वहीं दूसरी की कम बीम हड्डियों के अंदर से गुजरते हुए एक्सरे करती है। जिससे पता लग जाता है कि हड्डियों की मोटाई कितनी है।

बीसीसीआई सचिव जय शाह का बड़ा बयान

जय शाह ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि-

‘उदीयमान क्रिकेटरों को राष्ट्रीय टीम में चयन की पात्रता हासिल करने के लिए पर्याप्त घरेलू क्रिकेट खेलना होगा. यो-यो टेस्ट और डेक्सा अब चयन के आधार में शामिल होंगे. पुरुष टीम का एफटीपी (भावी दौरा कार्यक्रम) और आईसीसी 2023 वर्ल्ड कप को ध्यान में रखकर एनसीए फ्रेंचाइजी के साथ मिलकर आईपीएल-2023 में खेलने वाले भारतीय क्रिकेटरों की मॉनिटरिंग करेगा.’

Read More : भुवनेश्वर कुमार ने भारतीय टीम को लेकर दिया बड़ा अपडेट, T20 वर्ल्ड कप से बाहर हो सकते है दिनेश कार्तिक

 

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *