3 खिलाड़ी तोड़ सकते थे दुनिया के बड़े Records, लेकिन बीमारी के कारण डूब गया करियर

Records : क्रिकेट इतिहास में ऐसी कई खिलाड़ी हुए, जिनका करियर उनकी बीमारी ही ले डूबी। अगर आज यह खिलाड़ी बीमारी की चपेट में ना आए होते, तो आज वह एक अलग ही मुकाम पर होते। क्रिकेट जगत में इन खिलाड़ियों ने आज अपनी एक अलग ही पहचान बनाई होती। लेकिन बीमारी की चपेट में आने के कारण वह ऐसा बुरा फंसे कि उनका पूरा क्रिकेट करियर भी बर्बाद हो गया। समय से पहले ही इन खिलाड़ियों को क्रिकेट से संन्यास लेना पड़ा, क्योंकि उनका शरीर ही उनका साथ देने में सक्षम नहीं था। आइए जानते हैं, क्रिकेट जगत के ऐसे तीन दिग्गज खिलाड़ियों के बारे में जिनका बीमारी के कारण हो गया पूरा करियर बर्बाद।

युवराज सिंह

भारतीय टीम के पूर्व ऑलराउंडर खिलाड़ी युवराज सिंह ने अपनी काबिलियत के दम पर भारत को कई मैच जिताए हैं। इस खिलाड़ी ने अपनी गेंदबाजी और बल्लेबाजी के धुआंधार प्रदर्शन से क्रिकेट जगत में कोहराम मचा रखा था। साल 2007 के T20 वर्ल्ड कप और 2011 के वर्ल्ड कप जीतने में युवराज सिंह ने भारत के लिए महत्वपूर्ण योगदान निभाया है।

सिर्फ इतना ही नहीं बल्कि 2011 के वनडे वर्ल्ड कप में युवराज सिंह ‘प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट’ भी थे। वर्ल्ड कप के बाद युवराज लंग कैंसर का शिकार हो गए थे। वेस्टइंडीज के खिलाफ खेले जा रहे 2011 के वर्ल्ड कप के दौरान ही युवराज सिंह को खून की उल्टियां होने लगी। हालांकि कुछ समय कैंसर से लड़ने के बाद उन्होंने क्रिकेट में अपनी वापसी भी की थी, लेकिन दोबारा वह अपनी उस लय में नजर नहीं आ सके, जिसके लिए वह पॉपुलर थे।

शोएब अख्तर

रावलपिंडी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज तेज गेंदबाज शोएब अख्तर की ताबड़तोड़ गेंदबाजी को देखने के बाद सभी बल्लेबाजों के पसीने छूट जाते थे। वह इतनी अधिक तीव्र गति से गेंदबाजी करते थे, कि उनकी गेंदें खेलने से बल्लेबाजों को घबराहट होने लगती थी।

भारत के खिलाफ एक मैच के दौरान शोएब अख्तर ने अपनी तेजतर्रार गेंदबाजी के चलते सौरव गांगुली की पसलियों में भी गेंद मार दी थी। जिसके बाद गांगुली को तुरंत अस्पताल ले जाना पड़ा। हालांकि इसका नुकसान शोएब अख्तर को भी झेलना पड़ा। बिजली से भी अधिक तेज गेंदबाजी करने के कारण उन्हें घुटनों की दिक्कतें शुरू हो गई, और आज तक वह रिकवर नहीं हो सके हैं। अपने घुटनों के इंजरी के कारण अख्तर को कई मैच भी छोड़ने पड़े।

बीयू कैसन

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व चाइनामैन गेंदबाज बीयू कैसन का नाम भी ऐसे खिलाड़ियों में शामिल है, जो बीमारी के कारण जल्द ही क्रिकेट को अलविदा बोल गए। पैदा होने से ही दिल की गंभीर बीमारी का शिकार बीयू कैसन का बचपन में ही ऑपरेशन भी हुआ था। लेकिन फिर भी वह पूरी तरह से रिकवर नहीं कर पा रहे थे।

साल 2008 में ऑस्ट्रेलिया के लिए खेलते हुए उन्होंने अपना अंतरराष्ट्रीय पदार्पण किया था। लेकिन वेस्टइंडीज के खिलाफ उन्होंने अपना एकलौता टेस्ट मैच ही खला था जिसने जेवियर मार्शल को आउट कर वह अपना पहला विकेट हासिल करने में कामयाब रहे थे। ऐसा प्रतीत हो रहा था, कि वह दिग्गज ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज ब्रैड हॉग को रिप्लेस कर देंगे। लेकिन जब साल 2011 में इनकी दिल की बीमारी उभरकर सामने आ गई तो उन्हें क्रिकेट से संन्यास लेना पड़ा।

Read Also:-5 ऐसे मशहूर Cricketers जिन्होंने अपने जीवन में दो बार लिए सात फेरे, एक तो 66 की उम्र में भी रचा बैठा शादी

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *