4 दिग्गज भारतीय खिलाड़ी जो वर्ल्ड कप के प्रमुख मैचों में रहे असफल

जब भी आईसीसी टूर्नामेंट की और भारतीय टीम की बात आती है तो कुछ दिग्गज खिलाड़ियों से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद की जाती हैं। ऐसे में कुछ दिग्गज भारतीय खिलाड़ियों ने अच्छा प्रदर्शन करके दिखाया है।

वहीं इनमें से कुछ खिलाड़ी आईसीसी के किसी महत्वपूर्ण मैच में अच्छा प्रदर्शन करने में फेल हो गए। इसको खिलाड़ी और फैंस दोनों भूलना पसंद करेंगे।

यह कहना बिल्कुल सही होगा कि आईसीसी इवेंट्स में मुश्किल स्थितियों में प्रमुख खिलाड़ियों का फेल होना गेम का हिस्सा रहा है।

तो आज हम आपको उन 5 भारतीय खिलाड़ियों के बारे में बताने जा रहे है जो वर्ल्ड कप के प्रमुख मैचों में भारत के लिए अच्छा प्रदर्शन करने में कामयाब नहीं हो पाए है।

1. सचिन तेंदुलकर (आईसीसी 2003 वर्ल्ड कप)

जोहान्सबर्ग में खेले गए वर्ल्ड कप के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 2 विकेट खोकर 359 रन का विशाल स्कोर खड़ा किया। ऑस्ट्रेलिया की तरफ से सबसे ज्यादा रन कप्तान रिकी पोंटिंग ने बनाये।

उन्होंने 121 गेंद में 4 चौके और 8 छक्के की मदद से नाबाद 140 रन की शानदार पारी खेली। वहीं लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम के सलामी बल्लेबाज सचिन तेंदुलकर से सभी को उम्मीद थी की वो बड़ी पारी खेलेंगे।

इसके पीछे की वजह ये थी कि सचिन ने इस टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाये थे। हालांकि सचिन पहले ही ओवर में 4 रन बनाकर पवेलियन की और लौट गए। भारत ये मैच 125 रन के विशाल अंतर से हार गया था।

3. वीरेंद्र सहवाग (आईसीसी 2011 वर्ल्ड कप)

वीरेंद्र सहवाग का आईसीसी 2011 वर्ल्ड कप अच्छा रहा, उन्होंने आठ मैचों में 380 रन बनाए, जिसमें बांग्लादेश के खिलाफ शतक भी शामिल था। वानखेड़े में श्रीलंका के खिलाफ फाइनल में उनसे काफी उम्मीदें थी लेकिन वो 0 पर आउट हो गए।

इस मैच में भारत को वर्ल्ड कप जीतने के लिए श्रीलंका ने 275 रन का टारगेट दिया था। भारत ने यह मैच कप्तान एम एस धोनी के नाबाद 91(79) और गौतम गंभीर की 97(122) रन की पारियों की मदद से 6 विकेट से अपने नाम कर लिया।

4. विराट कोहली (आईसीसी 2015 वर्ल्ड कप)
इस सेमीफाइनल में ऑस्ट्रेलिया ने पहले कप्तानी करते हुए 50 ओवरों में 7 विकेट खोकर 328 रन का स्कोर खड़ा किया था।

टीम की तरफ से सबसे ज्यादा रन स्टीव स्मिथ ने बनाये।उन्होंने 93 गेंद में 11 चौको और 2 छक्कों की मदद से 105 रन की शतकीय पारी खेली।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी भारतीय टीम को रोहित शर्मा और शिखर धवन ने 76 रन की साझेदारी करते हुए बेहतरीन शुरुआत दी। इसके बाद धवन 45 रन बनाकर आउट हो गए।

धवन के आउट होने के बाद रन मशीन विराट कोहली बल्लेबाजी करने उतरे। फैंस को उम्मीद थी कि वो बड़ी पारी खेलेंगे लेकिन वो 13 गेंद में एक रन बनाकर आउट हो गए। भारत को इस सेमीफाइनल में 95 रन से हार का सामना करना पड़ा।

5. युवराज सिंह (आईसीसी टी20 वर्ल्ड कप 2014)

2014 के वर्ल्ड कप में भारत ने विराट कोहली के दम पर शानदार प्रदर्शन किया था और वो टूर्नामेंट जीतने के लिए पसंदीदा टीम लग रहे थे।

भारतीय टीम का फाइनल मैच श्रीलंका की टीम से हुआ। इस मैच में भारतीय उपकप्तान विराट ने शानदार प्रदर्शन किया और अर्धशतक ठोक दिया।

फैंस और टीम को लग रहा था कि भारत बड़ा स्कोर बना लेगा पर यह हुआ नहीं। मध्यक्रम में बल्लेबाजी करने आये युवराज अंत तक स्ट्रगल करते रहे। उन्होंने जब तेजी से रन बनाने थे तब 21 गेंदे बर्बाद कर दी।

काफी विकेट शेष रहते भी भारत एक मामूली से स्कोर पर सिमट गया जिसमें आधे रन सिर्फ कोहली ने बनाये थे।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.