Hardik Pandya नहीं है कप्तानी पद संभालने के लायक, कहीं BCCI कर न दे टी-20 का कप्तान बनाकर बड़ी गलती, तीन कारणों से हो चुका है साबित

Hardik Pandya : भारत बनाम श्रीलंका के बीच तीन मैचों की रोमांचक T20 सीरीज का आगाज 3 जनवरी को होने जा रहा है, जिसकी मेंजबानी भारत के द्वारा की जा रही है। आईसीसी T20 वर्ल्ड कप 2022 के दौरान इंग्लैंड के हाथों मिली हार के बाद अब रोहित शर्मा की कप्तानी पर कई सवाल उठाए जा रहे हैं।

अब मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक भारत के नए T20 के कप्तान हार्दिक पांड्या बनाए जा सकते हैं। लेकिन कहीं बीसीसीआई का यह लिया गया फैसला गलत साबित ना हो जाए, स्थाई रूप से टीम के कप्तान हार्दिक पांड्या को बनाना किसी बड़े खतरे से कम नहीं है। आइए जानते हैं ऐसे कौन से कारण है जिनके कारण चलते हार्दिक पांड्या को कप्तान बनाना गलत साबित हो सकता है।

अनुभव की कमी

भारतीय क्रिकेट टीम के स्टार ऑलराउंडर खिलाड़ी हार्दिक पांड्या द्वारा आईपीएल 2022 में पहली बार कप्तानी का पद संभाला गया था। बतौर कप्तान अपने पहले ही सीजन में हार्दिक ने गुजरात टाइटंस को आईपीएल का चैंपियन बनाया था। जिसके चलते उन्हें आयरलैंड और न्यूजीलैंड के खिलाफ भी टीम में कप्तानी करने का चांस मिल सका था। हार्दिक पांड्या द्वारा आईपीएल में अपनी बेहतरीन कप्तानी के चलते सबको बहुत अधिक प्रभावित किया गया है।

फिटनेस पर सवालिया निशान

हार्दिक पांड्या के करियर की सबसे बड़ी परेशानी उनकी फिटनेस रही है।यह खिलाड़ी बहुत अधिक अनफिट रहता है, जिसके चलते कई मुकाबले भी उन्हें छोड़ने पर जाते हैं। आईपी एल 2022 से पहले हार्दिक क्रिकेट से काफ़ी समय से दूर चल रहे थे। कमर में चोट लगने के चलते काफी लंबे समय तक हार्दिक गेंदबाजी करने में भी नाकाम थे। बतादे साल 2018 के एशिया कप में हार्दिक को पीठ में चोट आई थी, जिसके बाद लंबे समय तक यह खिलाड़ी गेंदबाजी नहीं कर सका।

चोटिल होने के कारण यह खिलाड़ी क्रिकेट से काफी समय तक दूर रहा था। इसके बाद जब क्रिकेट के मैदान पर उनकी वापसी भी हुई, तो वह बहुत समय तक गेंदबाजी करने से कतराते रहे। हालांकि आईपीएल 2022 में वह अपने 4 ओवर पूरे करते हुए गेंद से बेहतरीन प्रदर्शन किया है। लेकिन फिटनेस हमेशा से ही उनके लिए एक बड़ा सवाल रही है। क्योंकि कई बार तो मैच में तकलीफों का सामना करते हुए देखा जा सकता है, ऐसे में उनकी कप्तानी के दौरान उनकी फिटनेस पर भी बड़ा सवाल खड़ा हो सकता है।

लेकिन अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में इस खिलाड़ी के पास उतना अधिक अनुभव मौजूद नहीं है। अब तक इस खिलाड़ी का सही तरीके से बतौर कप्तान कोई टेस्ट नहीं हो सका है। ऐसी स्थिति में कप्तानी का पूरा अनुभव ना होने के चलते हार्दिक को टीम का कप्तान बनाना किसी बड़े खतरे से कम नहीं होगा।

दिग्गज खिलाड़ियों के साथ बातचीत करना मुश्किल

अगर हार्दिक पांडेय किन्ही कारणों के चलते कप्तान पद पर काबिज हो भी गए तो उनके लिए सबसे बड़े परेशानी दिग्गज खिलाड़ियों के साथ खेल को लेकर बातचीत करने में होगी क्योंकि कप्तान बनने के बाद पांडेय टीम में रोहित शर्मा विराट कोहली जसप्रीत बुमराह जैसे अनुभवी खिलाड़ी हैं जो अपनी कप्तानी के साथ बड़े बड़े कारनामे करने के लिए जाने जाते हैं।

ऐसी सिचुएशन में उन खिलाड़ियों से अपने खेल को लेकर बात करना और उन्हें परामर्श देना हार्दिक पांड्या के लिए एक बहुत बड़ी समस्या बन सकती है और ना ही उनके लिए कोई आसान काम होगा यहां तक अगर किसी भी बात को लेकर खिलाड़ियों के बीच कोई मतभेद होता है तो इसका असर उनकी टीम पर होगा ऐसे में तीन कारणों के चलते हम कह सकते हैं कि बीसीसीआई द्वारा हार्दिक पांड्या को T20 का कप्तान बनाकर कहीं कोई बड़ी गलती ना कर दी जाए।

Read Also:-भारतीय सिलेक्टर्स ने किया नजर अंदाज तो करियर के शुरुआत में ही इस बल्लेबाज ने किया अहम फैसला, अब इस देश के अंतरराष्ट्रीय टीम में हुए शामिल

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *