सेमीफाइनल मुकाबले में रोहित शर्मा के इन 3 खराब फैसलों की वजह से भारत को करना पड़ा शर्मनाक हार का सामना

टी-20 विश्व कप 2022 के दूसरे सेमीफाइनल मुकाबले में इंग्लैंड ने रोहित शर्मा (Rohit Sharma) की अगुवाई वाली भारतीय टीम को 10 विकेटों से करारी शिकस्त देकर फाइनल में एंट्री कर ली है। जहां सुपर-12 में अबतक टीम इंडिया (Team India) काफी शानदार प्रदर्शन करते हुए ग्रुप 2 पर टॉप स्थान पर थी, लेकिन इस अहम मुकाबले मेंं भारत को इंग्लैंड के हाथों शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा। बता दें रोहित शर्मा ने सेमीफाइनल मुकाबलों में कई खराब फैसले लिए जिनकी वजह से भारत के फाइनल में जाने का सपना चकनाचूर हो गया। आइये इस आर्टिकल के जरिए जानते है रोहित के उन खराब फैसलों के बारे में…

इंग्लैंड (IND vs ENG) के खिलाफ मिली शर्मनाक हार में कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) का पहला गलत फैसला रहा युजवेंद्र चहल को लेकर। बता दें टी-20 विश्व कप 2022 के पूरे टूर्नामेंट में रोहित शर्मा ने चहल को एक बार भी खेलने का मौका नहीं दिया। उन्होंने लगातार उनकी जगह रविचंद्रन अश्विन को प्लेइंग XI में शामिल किया। कप्तान रोहित का ये फैसला उन्हें काफी महंगा पड़ा और टीम को इंग्लैंड के हाथों 10 विकेटों से करारी हार मिली।

१.बता दें युजवेंद्र चहलने टीम इंडिया के लिए अभी तक 69 टी20 मैच खेले हैं, जिसमें उन्होंने 8.12 की इकॉनमी से 85 विकेट हासिल किए हैं। वहीं युजवेंद्र चहल (Yuzvendra Chahal) टी20 क्रिकेट में टीम इंडिया की ओर से सबसे ज्यादा विकेट हासिल करने वाले दूसरे गेंदबाज भी हैं। लेकिन इस प्रदर्शन के बावजूद कप्तान रोहित ने उन्हें लगातार नजरअंदाज कर सबसे बड़ी गलती की।

२.पंत को खराब प्रदर्शन के बावजूद क्यों मिला मौका?
बता दें इंग्लैंड के खिलाफ मिली करारी हार में कप्तान रोहित (Rohit Sharma) का दूसरा खराब फैसला रहा टीम इंडिया के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋषभ पंत (Rishabh Pant) को मौका देना। सेमीफाइनल मुकाबले में कप्तान रोहित ने दिनेश कार्तिक को नजरअंदाज कर पंत को खेलने का मौका दिया, लेकिन पंत इस मौके को भुना नहीं पाए और सस्ते में पवेलियन लौट गए। पूरे विश्व कप में पंत को रोहित ने 2 मौके दिए लेकिन पंत ने फ्लॉप प्रदर्शन का नजारा पेश किया। पंत ने 4 गेंदों में 150 की स्ट्राइक रेट से महज 6 रनों की छोटी पारी खेली।

ऐसे में ये कहा जा रहा है कि शायद आज रोहित दिनेश कार्तिक को मौका दे देते तो वो अपने बल्ले से कुछ कमाल दिखाते हुए टीम का स्कोर बनाने में अहम योगदान देते हुए नजर आते। लेकिन रोहित को इस गलत फैसले के चलते अब पछतावा जरूर होगा।

३.अक्षर पटेल को बार-बार खराब प्रदर्शन के बावजूद क्यों नही किया बाहर
इस लिस्ट में कप्तान रोहित (Rohit Sharma) का तीसरा गलत फैसला रहा टीम इंडिया के तेज गेंदबाज अक्षर पटेल (Axar Patel) को लगातार मौका देना। दरअसल विश्व कप के पांचों मुकाबलों में अक्षर को प्लेइंग XI में जगह मिली थी, लेकिन उन्होंने 5 मैचों में बस 3 विकेट चटकाए। जहां पाकिस्तान के खिलाफ उन्होंने 21 रन लुटाते हुए कोई विकेट नहीं लिया, फिर नीदरलैंड्स के खिलाफ 2 विकेट लेते हुए 18 रन लुटाए। बांग्लादेश के खिलाफ उन्होंने 6 रन लुटाए और कोई विकेट नहीं हासिल किया। जिम्बाब्वे के खिलाफ उन्होंने 1 विकेट के साथ 40 रन लुटाए और सेमीफाइनल मैच में इंग्लैंड के खिलाफ 30 रन लुटाए और इस दौरान वो को विकेट नहीं ले पाए। ऐसे में उन्होंने हर मैच में विकेट लेने से ज्यादा रन लुटाने का काम किया है। वहीं कप्तान रोहित ने उन्हें लगातार मौका देकर बहुत बड़ी गलती की।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *