भारत का अगला गावस्कर कहा जाता था ये खिलाड़ी 111 मैच में ही खत्म हो गया करियर

भारत का अगला गावस्कर कहा जाता था ये खिलाड़ी 111 मैच में ही खत्म हो गया करियर

क्रिकेट जगत में अब तक एक से एक तकनीकी रूप से बेहतरीन बल्लेबाज देखने को मिले। भारतीय क्रिकेट टीम की बात करें तो भारत के पास भी अब तक के इतिहास में एक से एक तकनीकी बल्लेबाज हुए हैं। जिसमें सबसे बड़े तकनीकी दक्ष बल्लेबाजों में पूर्व महान बल्लेबाज सुनील गावस्कर, राहुल द्रविड़ और सचिन तेंदुलकर के बाद विराट कोहली का नाम प्रमुख रूप से लिया जाता है।

वो बल्लेबाज जिसकी तकनीक की तुलना होती थी सुनील गावस्कर जैसे दिग्गज के साथ
इन बल्लेबाजों की तकनीक की दुनिया सलाम करती है। भारत के ऐसी शानदार तकनीक के सहारे इन बल्लेबाजों में बड़ा ही शानदार करियर भी बनाया। इसके अलावा एक ऐसे बल्लेबाज रहे हैं जिनकी तकनीक की तुलना सुनील गावस्कर जैसे दिग्गज से की जाती थी।

सुनील गावस्कर

इस बल्लेबाज ने भले ही भारतीय क्रिकेट टीम की तरफ से ज्यादा लंबा करियर नहीं बना सके लेकिन उनकी बल्लेबाजी तकनीक देखते ही बनती थी जिसके सहारे उन्होंने एक खास नाम भी किया लेकिन वहीं कि वो अपना करियर लंबा नहीं खींच सके।

संजय मांजरेकर जिनकी बल्लेबाजी तकनीक थी बहुत खूबसूरत
ये बल्लेबाज हैं मौजूदा दौर में कमेन्ट्री की दुनिया में बड़ा ना बन चुके भारत के पूर्व क्रिकेट संजय मांजरेकर… जी हां आपने सही सुनी संजय मांजरेकर एक बहुत ही जबरदस्त तकनीकी दक्षता वाले खिलाड़ी रहे हैं।

भारत का अगला गावस्कर कहा जाता था ये खिलाड़ी 111 मैच में ही खत्म हो गया करियर 2

वैसे तो भारतीय क्रिकेट अभी बंद पड़ा हुआ है जिस कारण से संजय मांजरेकर इतनी ज्यादा चर्चा में नहीं है, लेकिन आज हम उनकी बात इसलिए कर रहे हैं कि हाल ही में उन्होंने अपने जीवन के 55 साल पूरे किए हैं। संजय मांजरेकर का जन्म 12 जुलाई 1965 को मंगलौर में भारत के दिग्गज क्रिकेटर रह चुके विजय मांजरेकर के घर हुआ।

संजय मांजरेकर की तकनीक देख विव रिचर्ड्स ने उन्हें कहा अगला गावस्कर
संजय मांजरेकर को पिता विजय मांजरेकर के कारण क्रिकेट का माहौल शुरू से ही घर में मिला जिसके बाद उन्होंने भी भारतीय क्रिकेट टीम में साल 1987 में वेस्टइंडीज के खिलाफ अपने करियर का आगाज किया। यहां पर वो ज्यादा कुछ खास तो नहीं कर सके लेकिन उन्होंने ये तो दिखा दिया कि उनकी बल्लेबाजी तकनीक खास है। वो

भारत का अगला गावस्कर कहा जाता था ये खिलाड़ी 111 मैच में ही खत्म हो गया करियर 3

इसके बाद 1989 में भारतीय क्रिकेट टीम वेस्टइंडीज के दौर पर गई जहां उन्होंने ब्रिजटाउन में शानदार 108 रनों की पारी खेल दिखाया कि उनमें काबिलियत है। वेस्टइंडीज के बड़े गेंदबाजों के सामने इस युवा बल्लेबाज ने अच्छी पारी खेली। इस दौरे पर संजय मांजरेकर का प्रदर्शन बहुत शानदार रहा और इसी कारण से महान बल्लेबाज विव रिचर्ड्स ने उन्हे भारत का अगला सुनील गावस्कर कह डाला। विव रिचर्ड्स ने अपने बयान में कहा संजय में ,भारत ने एक गावस्कर पाया है। उसके पास सबकुछ है। उत्कृष्ट तकनीक, हिम्मद और दृढ़ संकल्प।

संजय मांजरेकर ने जिम्बाब्वे और पाकिस्तान के खिलाफ किया जबरदस्त प्रदर्शन
भारतीय टीम इसके बाद जिम्बाब्वे जैसी कमजोर टीम के खिलाफ 1992 में पहली बार टेस्ट खेलने उतरी। जिम्बाब्वे की टीम ने भारत के सामने 456 रनों का स्कोर खड़ा कर लिया और भारत के शुरुआती विकेट जल्द ही ले लिए यहां से भारत मुश्किल स्थिति में था लेकिन संजय मांजरेकर ने मैराथन पारी खेल 422 गेंद में 9 घंटे क्रीज पर रहकर 104 रन की पारी खेली। इस पारी ने उन्हें पहचान दिलायी।

भारत का अगला गावस्कर कहा जाता था ये खिलाड़ी 111 मैच में ही खत्म हो गया करियर 4

इसके बाद पाकिस्तान के खिलाफ संजय मांजरेकर ने कमाल किया। पूरे पाकिस्तानी के खिलाफ उनके बल्ले से रन निकले और उन्होंने 4 टेस्ट मैचों में 2 शतक और 3 अर्धशतक की मदद से 569 रन बनाए। इसके बाद उनका कद बढ़ने लगा।

द्रविड़-गांगुली के आने से उनका स्थान धीरे-धीरे होता रहा खत्म
भारत में स्थापित हो चुके इस बल्लेबाज के प्रदर्शन में इसके बाद निरंतरता नहीं दिखी। साल 1996 तक तो वो खेलते रहे लेकिन यहां से टीम में आए दो युवा खिलाड़ी सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ के आगे मांजरेकर की टीम से छुट्टी हो गई। उन्हें बाहर बैठना पड़ा और 37 टेस्ट मैच के बाद उनका करियर आगे नहीं बढ़ सका। मांजरेकर ने 37 टेस्ट मैचों में 2043 रन और 74 वनडे मैचों में 1994 रन बनाए। इसके बाद टीम में जगह ना मिलते देख उन्होंने संन्यास लेकर कमेन्ट्री की तरफ बढ़ चले।

admin

Leave a Reply

Your email address will not be published.